Breaking News

RCB vs CSK: ब्रावो ने किया धोनी के मास्‍टरस्‍ट्रोक का खुलासा, और बताया की - कोहली को कैसे परेशान किया

0 comments, 2021-09-25, 315333 views

विराट कोहली अगर क्रीज पर जम जाएं तो उन्हें आउट करना आसान नहीं होता. लेकिन विराट के पूर्व कप्तान और टीम इंडिया के मेंटॉर महेंद्र सिंह धोनी को यह हुनर आता है. शुक्रवार को जब चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ कोहली अर्धशतक लगा चुके थे और बड़ी पारी की तरफ बढ़ते नजर आ रहे थे. तभी सीएसके के कप्तान धोनी ने ड्वेन ब्रावो को गेंद थमा दी और और उन्हें 6 अलग-अलग गेंदें फेंकने के लिए कहा. धोनी की यह चाल काम कर गई और जल्द ही कोहली आउट हो गए और उनके पवेलियन लौटते ही आरसीबी की बल्लेबाजी बिखर गई
ब्रावो ने 4 ओवर में 24 रन देकर 3 विकेट लिए. दूसरी ओर, शार्दुल ठाकुर ने भी 29 रन देकर 2 विकेट लिए. आखिरी के ओवरों में सीएसके की कसी हुई गेंदबाजी के कारण ही आरसीबी 156 रन ही बना पाई, जबकि विराट कोहली (53) और देवदत्त पडिक्कल (70) ने पहले विकेट के लिए 111 रन जोड़े थे.

विराट के खिलाफ ब्रावो मास्टरस्ट्रोक साबित हुए: धोनी

मैच खत्म होने के बाद सीएसके के कप्तान धोनी ने ब्रावो की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि अच्छी बात यह है कि ब्रावो फिट हैं और अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं. मैं उन्हें अपना भाई कहता हूं और हमारे बीच हमेशा इस बात को लेकर झगड़ा होता है कि क्या उन्हें धीमी गेंद फेंकनी चाहिए. लेकिन अब हर कोई जानता है कि ब्रावो अक्सर धीमी गेंद फेंकते हैं. इसलिए मैंने कोहली के खिलाफ उसे ओवर में 6 अलग-अलग गेंदें फेंकने के लिए कहा. इसके बाद जो हुआ, वो सबको पता है.

जडेजा का स्पैल अहम था

धोनी ने आगे कहा कि हम ओस को लेकर चिंतित थे और हमने वह पिछला सीजन देखा था. आरसीबी ने शानदार शुरुआत की और आठवें या नौवें ओवर के बाद पिच थोड़ी धीमी हो गई. पडिक्कल जिस तरह से एक छोर से बल्लेबाजी कर रहे थे, उससे जडेजा का स्पैल काफी अहम था. मैंने मोईन से कहा कि वह ड्रिंक्स के दौरान एक छोर से गेंदबाजी के लिए तैयार रहें. लेकिन फिर मैंने अपना मन बदल लिया. मैंने फैसला किया कि ब्रावो को गेंदबाजी करनी चाहिए. क्योंकि उन्हें जितनी देर से लाते, तो परेशानी बढ़ जाती. क्योंकि फिर उन्हें एक साथ 4 ओवर गेंदबाजी करनी होती. हमारी यह चाल सफल रही.

मेरे लिए विराट का विकेट अहम था: ब्रावो

तीन विकेट वाले ब्रावो को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया. उन्होंने मैच के बाद कहा कि आईपीएल सबसे मुश्किल टूर्नामेंट है. किसी दिन आपकी चाल काम कर जाती है और किसी दिन नहीं. विराट का विकेट काफी अहम था. मैं बस इसे सरल रखना चाहता था. जैसा कि मैंने कहा, मेरे लिए तैयारी महत्वपूर्ण है. मैं नेट्स में स्लो गेंद के अलावा अलग-अलग गेंदों का अभ्यास करता हूं और इसका फायदा मिला.

सीएसके टॉप पर पहुंचीं

इस जीत के बाद सीएसके नेट रन रेट (NNR) के मामले में दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) से आगे प्वाइंट्स टेबल में टॉप पर पहुंच गई है. आरसीबी के लिए, चीजें थोड़ी मुश्किल होती जा रही हैं, और उन्हें जल्द ही जीत के रास्ते पर वापस जाना होगा, क्योंकि बाकी टीमें उनसे ज्यादा पीछे नहीं.



UPPatrika
प्राची मिश्रा
यूपी पत्रिका डेस्क
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...