Breaking News

13 साल बाद भी पीड़ितों को नहीं मिला इंसाफ, जानिए कहाँ अटकी हुई है जांच

0 comments, 2021-11-26, 156636 views

लखनऊ: मुंबई में हुए आतंकी हमले में 15 देशों के 166 लोगों की मौत हो गई थी। बता दें कि इस दिन आतंकियों ने प्रतिष्ठित ताजमहल पैलेस होटल, नरीमन हाउस, मेट्रो सिनेमा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस सहित कई जगहों पर हमला किया था। इस हमले को 13 वर्ष बीत चुके हैं लेकिन इस हमले के कई गुनहगार अब भी पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में खुलेआम घूम रहे हैं।   हमले में सुरक्षा बलों ने अजमल कसाब नाम के एकमात्र आतंकी को गिरफ्तार किया था।

 जिससे हुई पूछताछ में उसने पुष्टि करते हुए कहा था कि इसकी योजना लश्कर और पाकिस्तान में स्थित दूसरे आतंकी संगठनों ने की थी। कसाब ने बताया था कि सभी हमलावर पाकिस्तान से नाव के जरिए भारत आए थे। हमले के दौरान उन्हें पाकिस्तान से ही आर्डर दिया जा रहा है। हमले के दस वर्ष बाद, पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ ने हैरतअंगेज़ खुलासे में संकेत दिया था कि इन हमलों में इस्लामाबाद की भूमिका थी। पाकिस्तान द्वारा अपनी सार्वजनिक स्वीकृति के अलावा भारत की ओर से भी साक्ष्य साझा किए गए। इसके बाद भी पाकिस्तान ने पीड़ितों के परिवारों को इंसाफ दिलाने में अभी तक ईमानदारी नहीं दिखाई है।
 

बता दें कि इस हमले को 13 वर्ष बीत चुके हैं। भारत ने 13वीं बरसी पर पाकिस्तान उच्चायोग के राजनयिक को तलब किया है। इससे पहले 7 नवंबर को पाकिस्तानी एक कोर्ट ने इस हमले में शामिल छह आतंकियों को मुक्त कर दिया। जिसमें हाफिज सईद द्वारा बनाई गई रणनीति में शामिल लोग थे। बता दें कि हाफिज सईद संयुक्त राष्ट्र (UN) द्वारा आतंकवादी संगठन घोषित किए गए लश्कर-ए-तैयबा (LET) और इसकी चैरिटी विंग जमात-उद-दावा (JUD) का सरगना है।



UPPatrika
दीपा सिंह
यूपी पत्रिका डेस्क
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...