Breaking News

39 बच्चों की बिन ब्याही मां को मिलेगा राष्ट्रपति से सम्मान

0 comments, 2016-11-12, 1146 views

रांची: झारखण्ड की मानव सेवा से जुड़ी एक महिला को राष्ट्र​पति 14 नवम्बर को राजीव गांधी सम्मान से सम्मानित करेगें। मानव सेवा का पथ वंदना ने 12 वर्ष पूर्व शुरू किया था। इसी लिए बाल दिवस के मौके पर उन्हे दिल्ली बुलाया गया है।
 झारखण्ड के गोड्डा जिले में बारह वर्ष पूर्व वंदना दुबे नाम की महिला ने गरीब अनाथ बच्चों व गरीब बच्चों की सेवा करने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया था। उन्होने जब अनाथ आश्रम की शुरूआत किया था तब उनके पास मात्र दो बच्चे थे। वंदना ने मीडिया को बताया कि 12 जनवरी से 2005 से निरन्तर वह अनाथ आश्रम के बच्चों की सेवा में जुटी हुई है। उन्होने आगे बताते हुए कहा कि, "बिना किसी सरकारी मदद से बच्चों की दिन रात मन लगाकर सेवा कर रही हूं।" उन्होने कहा कि ग्यारह साल के सफर में काफी उतार चढाव देख मगर मैने हिम्मत नही हारी और अनवरत बिना कुछ सोचे समझे कामयाबी के रास्ते पर आगे बढती रही। वंदना ने बताया कि शहर के कुछ डॉक्टर,वकील पत्रकार,आटा दाल चावल व कुछ रूपये की हर माह मदद कर देते है लेकिन सरकार द्धारा अभी तक एक भी बार मदद नहीं मांगी और न ही मदद की जररूत है। इस अनाथ आश्रम को लेकर मेरे माता पिता भी काफी हमसे नाराज रहते थे लेकिन अब देश के राष्ट्रपति के द्धारा सम्मान मिलने पर घर वाले भी कॉफी खुश है। वदंना ने कहा कि मैने अपनी शादी नही कि सभी 39 बच्चे हमको मां कहकर पुकारते है बस मै ईश्वर से यही प्रार्थना करती हु कि यह पढ लिख कर तरक्की करे।


UPPatrika
पवन कुमार

और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...

X