Breaking News

जानिए आपके पुराने 500 और 1000 के नोटों के साथ क्या कर रही है सरकार

सम्बंधित लोकप्रिय ख़बरें

0 comments, 2016-12-06, 886 views

तिरुअनंतपुरम: केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 के पूराने नोटों को बंद किए जाने के बाद बैंकों में पूराने नोटों की भरमार हो गयी है। अब तक बैंकों में तीन हफ्तों में लगभग 8 लाख करोड़ रूपये जमा किए जा चुके हैं। आप सोच रहे होंगे कि सरकार इन पूराने नोटों का क्या करेगी?
दरअसल इन नोटों को जलाने के अलावा सरकार के पास दूसरा कोई और उपाये नहीं था। लेकिन आरबीआई की केरल राज्य शाखा ने इन नोटों को जलाने के स्थान पर इन्हे रीसाइकिल करने का एक अच्छा तरीका निकाल लिया है। केरल की राजधानी तिरुअनंतपुरम स्थित आरबीआई की शाखा ने इन पुराने नोटों को देश की एकमात्र हार्डबोर्ड निर्माता फैक्टरी - द वेस्टर्न इंडिया प्लाईवुड्स लिमिटेड - को बेच रही है। ताकि वह इन्हें उत्तरी केरल के कन्नूर जिले में स्थित अपनी फैक्टरी में रीसाइकिल कर सके।
ये फैक्टरी तिरुअनंतपुरम से लगभग 466 किलोमीटर दूर स्थित है। जहां पर इन पुराने नोटों के टुकड़े-टुकड़े करने के बाद एक मशीन में डाल दिए जाते हैं, जो इन्हें लुगदी में बदल देता है। फिर 95 फीसदी लकड़ी की लुगदी के साथ पांच फीसदी नोटों के काग़ज़ की लुगदी को मिलाकर हार्डबोर्ड बनाया जाता है। द वेस्टर्न इंडिया प्लाईवुड्स लिमिटेड के जनरल मैनेजर पीएम सुधाकरण नायर ने बताया, "पहले आरबीआई इन नोटों को सिर्फ जला रहा था, और अब हम इन्हें इस्तेमाल कर पा रहे हैं। हमें इन पुराने नोटों से बनी लुगदी की मात्रा (प्रतिशत) का बहुत ध्यान रखना होता है, क्योंकि यदि वह गलत हो गया, तो अंत में तैयार होने वाला प्रोडक्ट बिल्कुल खराब हो जाएगा।"


UPPatrika
पवन कुमार
स्वत्रन्त्र पत्रकार
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

सम्बंधित लोकप्रिय ख़बरें

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...