Breaking News

कौशल विकास मिशन के तहत प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को रोजगार से जोड़ने का काम करें संस्थान: सीडीओ

0 comments, 2019-10-05, 534486 views

गोण्डा से राहुल तिवारी की रिपोर्ट। कौशल विकास मिशन योजना भारत सरकार की सबसे महत्वूपर्ण रोजगार परक योजना है। इसलिए जो भी संस्थाएं प्रशिक्षण व प्लेसमेन्ट देने के लिए उत्तरादाई हों, वे जाॅब ओरिएन्टेड प्रशिक्षण के माध्यम से प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार देने का काम करें तथा रोजगार मिलने के बाद रोजगार पाने वाले प्रशिक्षणार्थियों का फाॅलोअप कर उनका रिकार्ड भी रखें जिससे उनकी समीक्षा की जा सके। यह निर्देश मुख्य विकास अधिकारी आशीष कुमार ने कलेक्ट्रेट सभागार में कौशल विकास मिशन योजनान्तर्गत विगत तीन वर्षों में किए गए कार्यों की समीक्षा के दौरान दिए हैं।
        मुख्य विकास अधिकारी ने योजनवार प्रशिक्षण व रोजगार की समीक्षा की। उन्होंने जनपद को आंवटित लक्ष्य और प्रशिक्षण प्रदातावार प्रशिक्षण लक्ष्यों के सापेक्ष उपलब्धि, प्रशिक्षण के लिए प्रदातावार निर्धारित सेन्टर व बैच बनाने की प्रगति, प्रशिक्षणार्थियों को वर्दी वितरित किए जाने की स्थिति, मूल्यांकन एवं प्रमाणीकरण तथा कौशल विकास केन्द्रों पर प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले प्रशिक्षणार्थियों को रोजगार मिलने व उनकी स्थिति की संस्था व केन्द्रवार समीक्षा। 
       उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश कौशल विकास का गठन विभिन्न विभागों में संचालित योजनाओं को समन्वित एवं एकीकृत रूप से क्रियान्वित करने के लिए वर्ष .2013 में आधिकारिक रूप से माननीय मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुभारम्भ किया गया है। इस योजना के तहत मुख्य रूप से 18-35 साल के युवक/युवतियों के लिए निःशुल्क पंजीकरण एवं प्रशिक्षण, अभ्यार्थियों को 41 सेक्टर के 665 पाठ््यक्रमों में से अपनी इच्छानुसार पाठ््यक्रम चयन करने का अवसर, समस्त अभ्यार्थियों को प्रशिक्षण की विशेषता-मूलपाठ््यक्रम के अतिरिक्त अंग्रेजी बोलने तथा कम्प्यूटर की सामान्य जानकारी प्रदान करना। प्रशिक्षण कार्यक्रम उच्च स्तरीय निजी प्रशिक्षण प्रदाताओं और सरकारी प्रशिक्षण संस्थानों द्वारा आयोजित किये जा रहे हैं। जिसमें सभी प्रशिक्षार्थियोें का मूल्यांकन योग्य एसेसर एजंेन्सीज के द्वारा किये जाने की व्यवस्था निर्धारित है। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थाओं; एसीवीटी व एनएसडीसी द्वारा स्थापित सेक्टर स्किल काउन्सिल आदि) में सफल लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र प्रदान किया जाता है। इसलिए सभी संस्थान सरकार की मंशानुरूप काम करें तथा युवाओं को प्रशिक्षित कर रोजगार से जोड़ने का काम करें।
      बैठक में बीएसए मनिराम सिंह, पीडी सेवाराम चाौधरी, डीडीओ रजत यादव, डीसी मनरेगा हरिश्चन्द्र प्रजापति, जिला श्रम अधिकारी, कौशल विकास मिशन कार्यक्रम प्रबन्धक प्रदीप मिश्र, मानसणि, आदर्श कश्यप सहित अन्य विभागीय अधिकारी व संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।



UPPatrika
पवन श्रीवास्तव
संपादक
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...