Breaking News

पीएम मोदी और मायावती की रैली के लिए जबरन कटवा दी गयी 40 बीघा फसलें

सम्बंधित लोकप्रिय ख़बरें

0 comments, 2017-02-26, 1124 views

विधानसभा चुनाव में रैलियाँ बड़े नेताओं की हो रही हैं लेकिन खामियाजा बेचारे किसानों को भुगतना पड़ रहा है। अन्नदाता अपने ही खेतों की फसलों को अमूक बस देखता रहा। दरअसल पीएम मोदी और बसपा की मायावती के आगमन के मद्देनजर मऊ के सदर विधान सभा क्षेत्र के अलग-अलग दो गांवों के लगभग 20 किसानों की 40 बीघे गेहूं की हरी फसल को कटवा दिया गया। वहीँ किसानों का आरोप है कि गांव के लोगों की इन फसलों को हल्ला बोलकर कटवा दिया गया।
दरअसल मऊ पीएम मोदी का आगमन 27 फरवरी को होने वाला है। बताया जा रहा है कि पहले पीएम की रैली घोसी विधानसभा क्षेत्र के माउरबोझ में होने वाली थी। लेकिन बाद रैली का बदल दिया गया और अब उनकी रैली के लिए आफिसर्स कालोनी के पश्चित हाइवे के पास सहरोज मौजे में होनी है। ख़बरों के मुताबिक़ हाइवे के पश्चिम छोटी सरयू नदी के उस पार की लगभग 40 बीघे क्षेत्रफल में खड़ी गेहूं की खड़ी फसल को शुक्रवार सुबह हल्ला बोलकर कटवा दिया गया।
दूसरी तरफ मायावती की 28 फरवरी को मऊ में होना वाली रैली के लिए मऊ बलिया स्टेट हाइवे के किनारे खालिसपुर गांव में लगभग 15 बीघे क्षेत्रफल में गली गेहूं की हरी फसल को चार दिन पहले ही कटवा दिया गया। अब इन लहलहाते खेतों की जगह पर वहां मंच बनाने और बेरिकेटिंग का कार्य जोरों पर चल रहा है।  
इस मामले में किसान नेता देवप्रकाश राय का कहना है कि किसानों के हित का दम भरने वाली बीजेपी किसानों की बहुमूल्य फसल पर हंसिया तो चलवा ही रही है यह राष्ट्रीय क्षति कर रही है। हरी फसल कटवाना राष्ट्रहित के विरुद्ध है। उनका तर्क है कि चुनावी सभा के लिए अनुपजाऊ और बंजर भूमि का चयन करना चाहिए न कि कृषि योग्य भूमि जिस पर किसानों की छह महीने की कमाई तो है ही देश के  लिए अनाज पैदा करने वाली भूमि पर।


UPPatrika
पवन कुमार
स्वत्रन्त्र पत्रकार
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

सम्बंधित लोकप्रिय ख़बरें

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...

X