Breaking News

केसर के बाद अब दुबई के बाजारों में बिकेगा कश्मीरी सेब और शहद

0 comments, 2020-12-17, 271365 views

लखनऊ : अनुच्छेद 370 की समाप्ति के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय विदेशी निवेशकों को जम्मू-कश्मीर की तरफ आकर्षित करने में जुटा हुआ है। मंत्रालय के प्रयासों का ही नतीजा है कि कश्मीर के केसर के बाद अब कश्मीरी सेब, शहद, मसाला और ट्राउट फिश भी आने वाले दिनों में दुबई के बाजारों में अपनी खुशबू और स्वाद बिखेर पाएंगे। इसके लिए जम्म-कश्मीर सरकार ने दुबई में 08-09 दिसंबर को आयोजित 'भारत-यूएई खाद्य सुरक्षा शिखर सम्मेलन' में अबु धाबी के लुलु ग्रुप इंटरनेशनल के साथ एमओयू साइन किया है। इसके साथ ही ग्रुप के संस्थापक अध्यक्ष यूसुफ अली ने जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में फूड प्रोसेसिंग एंड लॉजिस्टिक्स सेंटर स्थापित करने की भी घोषणा की है। 

जम्मू-कश्मीर सरकार और लुलु ग्रुप इंटरनेशनल के बीच एम0ओ0यू0 हुआ साइन

इस संबंध में दुबई स्थित भारतीय दूतावास के ऑफिशियल ट्वीटर हैंडल 'इंडिया इन दुबई' से ट्वीट कर जानकारी दी गई है। जिसमें बताया गया है कि 'भारत-यूएई खाद्य सुरक्षा शिखर सम्मेलन' में जम्मू-कश्मीर के 20 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने भाग लिया। जिसका नेतृत्व जम्मू और कश्मीर सरकार के प्रधान सचिव (कृषि उत्पादन और बागवानी) नवीन कुमार चौधरी कर रहे थे। यह जम्मू-कश्मीर से संयुक्त अरब अमीरात के लिए आया सबसे बड़ा प्रतिनिधिमंडल था। जिससे लुलु ग्रुप के संस्थापक अध्यक्ष यूसुफ अली ने मुलाकात की।

श्रीनगर में स्थापित होगा फूड प्रोसेसिंग एंड लॉजिस्टिक्स सेंटर 

मुलाकात के दौरान दोनों पक्षों में सहमति हुई कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर लुलु ग्रुप अपनी सभी सुपर मार्केट में जेएंडके स्पेशल पखवाड़े का आयोजन करेगा। इसकी शुरूआत 24 जनवरी से की जाएगी जिसमें जम्मू-कश्मीर के सभी प्रमुख उत्पादों को बिक्री के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। इस दौरान खाड़ी देशों के लोगों को इन उत्पादों के इतिहास व खासियत बारे में जानकारी भी दी जाएगी।

इसके साथ ही लुलु ग्रुप के अध्यक्ष यूसुफ अली ने श्रीनगर में फूड प्रोसेसिंग एंड लॉजिस्टिक्स सेंटर स्थापित करने की घोषणा की है। इसके लिए अगली फरवरी तक जमीन फाइनल हो जाएगी। शुरुआत में इस प्रोजेक्ट पर 60 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा बाद में निवेश की राशि बढ़ाई जाएगी। इस प्रोजेक्ट से करीब 300 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा।

इस बारे में जम्मू-कश्मीर सरकार के प्रधान सचिव (कृषि उत्पादन और बागवानी) नवीन कुमार चौधरी ने कहा कि ''बैठक के दौरान जम्मू-कश्मीर से लेकर पूरे खाड़ी क्षेत्र में लुलु ग्रुप के स्टोरों का उपयोग कर कृषि और बागवानी उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए कई निर्णय लिए गए। इसके अलावा लुलु ग्रुप को जम्मू-कश्मीर में सभी लॉजिस्टिक सुविधाएं और कार्यालय स्थापित करने में मदद की सहमति भी बनी है।''

प्रतिनिधिमंडल के साथ हुई बैठक के दौरान लुलु ग्रुप के अध्यक्ष  यूसुफ अली ने कहा कि ''जम्मू-कश्मीर में फलों, सब्जियों, दालों, मसालों, सूखे मेवों और अन्य कृषि उत्पादों की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि इस साल जनवरी से नवंबर के बीच 400 टन कश्मीरी सेब का आयात किया गया।''



UPPatrika
शाश्वत तिवारी
स्वतंत्र पत्रकार
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...