Breaking News

आरटीआई से हुई सख्ती के बाद मिला कृषक दुर्घटना बीमा योजना का लाभ

0 comments, 2017-06-13, 308 views

सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के तहत रामपुर निवासी श्री रामपाल सिंह ने अपर जिलाधिकारी मिलक, रामपुर को प्रार्थना-पत्र देकर जानकारी चाही थी कि वादी की पत्नी श्रीमती श्याम सुन्दरी दिनांक 24.03.2015 को जिलाधिकारी को दिये गये अपने अनुरोध पत्र पर क्या कार्यवाही की गयी है, जिसमें उन्होंने जानकारी मांगी थी कि प्रार्थिनी के पति (रामपाल) की मृत्यु असमय आकिस्मिक घर के बाहर बिजली पोल के तार टूट कर गिरा होने के कारण बिजली के तार के चपेट में आने से बिजली दुर्घटना में मृत्यु हो गयी है। उक्त के सम्बन्ध में एस0डी0एम0 मिलक व अन्य अधिकारीगण प्रार्थिनी के घर पहंुच कर पोस्टमार्टम कराने की सलाह दी गयी, और कहा गया कि कृषक बीमा दुर्घटना, क्षतिपूर्ति प्राप्त करा देंगे, अगर पोस्टमार्टम करा ले। मृत्यु का कारण बिजली के करंट का गहरा आघात लगना पाया गया। इस मामले में अब तक क्या कार्यवाही की गयी है, आदि बिन्दुओं की जानकारी मांगी थी मगर विभाग द्वारा कोई जानकारी नहीं दी गयी है, अधिनियम के तहत जानकारी न मिलने पर वादी ने राज्य सूचना आयोग में अपील दाखिल कर मामले की जानकारी चाही है।
राज्य सूचना आयुक्त श्री हाफिज उस्मान ने अपर जिलाधिकारी मिलक, रामपुर को सूचना का अधिकार अधिनियम-2005 की धारा 20 (1) के तहत नोटिस जारी कर आदेशित किया कि वादी द्वारा उठाये गये, बिन्दुओं की बिन्दुवार सभी सूचनाएं अगले 30 दिन के अन्दर अनिवार्य रूप से वादी को उपलब्ध कराते हुए, मा0 आयोग को अवगत कराये, अन्यथा जनसूचना अधिकारी स्पष्टीकरण देंगे कि वादी को सूचना क्यों नहीं दी गयी है, क्यों न उनके विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जाये।
सुनवाई के दौरान अपर जिलाधिकारी मिलक, रामपुर से श्री संजय कुमार सक्सेना उपस्थित हुए, उन्होंने बताया कि कृषक दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत रू0 5,00,000.00 (रू0 पाॅच लाख) स्व0 रामपाल पत्नी श्रीमती श्याम सुन्दरी को उपलब्ध करा दिये गये हैं, इस आशय की जानकारी प्रतिवादी ने मा0 आयोग को लिखित तौर पर दी है।


UPPatrika
पवन कुमार
स्वत्रन्त्र पत्रकार
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...