Breaking News

मां शेरावाली के दरबार को फूल पौधों से सजा कर युवाओं ने पर्यावरण संरक्षण का दिया अनोखा संदेश

0 comments, 2018-10-14, 248066 views

शारदीय नवरात्र के पावन अवसर पर गोंडा जिले के युवाओं की ओर से पर्यावरण संरक्षण का अनोखा संदेश दिया गया है. जनपद गोण्डा में वजीरगंज में  माता की आकर्षक झांकी  को फूल पौधों से सजा कर इन युवकों ने अभिनव पहल की है. युवाओं की इस मेहनत की न पूरे क्षेत्र में चर्चा हो रही है. सुभाष नगर स्थित श्री राम जानकी मंदिर में दुर्गा पूजा की तैयारियां पूरी होने पर जनपद में अनोखे पहल पर सराहना हो रही है. प्राकृतिक रंगों व पौधों से सजायी गई मूर्ति  को मंदिर में स्थापित किया गया है. मंदिर के संस्थापक भरत लाल ने बताया कि बालाजी समिति द्वारा पूर्व में मिट्टी की नवदुर्गा की मूर्तियां जनपद मुख्यालय से मंगाई जाती रही थी जिसमें काफी खर्चा भी होता था. इस बार सभी बाजार वासियों ने तय किया कि इस तरह धन की बर्बादी करने से अच्छा है कि स्थाई रूप से मां दुर्गे की एक मूर्ति स्थापित की जाए और नवरात्रि में उनका शृंगार प्राकृतिक रूप से किया जाए. माता के दरबार को बनाने में पुजारी सूर्यकांत त्रिपाठी ने बताया कि मां का रूप  नौ तरह के पौधों में जीवंत होता है. केला, अंकुरित जौ, हल्दी, जयंती, मन घुइया, अशोक, धान, अनार और बेल में माता का वास होता है. मां की प्रतिमा को स्थापित करने से पहले यह पौधे लगाए गये हैं. मां की प्रतिमा के पास पांच वेदियां रखी जाऐंगी. जिसे रंगोली से सजाया जाएगा. रंगोली में प्रयोग होने वाले रंग प्राकृतिक हैं. प्रतिमा के बगल छोटी-छोटी पहाड़ियां बना कर झरने का कृत्रिम रूप भी दिया गया है जो अत्यंत मनमोहक लग रहा है. सभी नौ दिनों के स्वरूप को दर्शाने में नौ तरह के पौधों में जीवन्त होता मां का रूप शोभायमान होता दिखा तो भक्तों का मन रोमंचित हो उठा. मां के दरबार की सजावट में पंकज गुप्ता, रामू गुप्ता, लालू गुप्ता, रवि गुप्ता, उज्जवल, चंद्र प्रकाश, द्वारिका सहित सैकड़ों युवकों ने सहयोग देकर एक आदर्श पहल किया है.


UPPatrika
G K Srivastav
संवाददाता
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...