Breaking News

पांच मिनट के भीतर पहुंची यूपी पुलिस की डायल 100 टीम,70 यात्रियो की बचाई जान

0 comments, 2019-04-08, 629330 views

गोंडा से उमानाथ तिवारी की रिपोर्ट। पुलिसकर्मियों ने फर्स्ट एड किट का प्रयोग कर की यात्रियों की मरहम पट्टी,फिर पहुंचाया अस्पताल । अनियंत्रित होकर पलटी यूपी रोडवेज की एसी जनरथ बस,20 यात्री घायल। गोंडा। लखनऊ से बढ़नी जा रही यूपी रोडवेज़ की एसी जनपथ बस रविवार की देर रात गोंडा उतरौला मार्ग पर धानेपुर थाना क्षेत्र के कोनिया बनकर गांव के पास अनियंत्रित होकर खड्ढे में पलट गई। गनीमत रही कि यात्रियो की सूचना पर महज पांच मिनट के भीतर पुलिस की डायल 100 टीम तत्काल मौके पर पहुंच गई और पुलिसकर्मियों ने साहस का परिचय देते हुए सभी यात्रियों के सकुशल बाहर निकाल लिया। हादसे के समय बस में 70 यात्री सवार थे। पुलिस के मुताबिक 20 यात्रियों को हल्की चोट आई थी जिनका सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मे इलाज कराया गया। पुलिस में सभी यात्रियों को उनके गन्तव्य की तरफ रवाना कर दिया। बस में सवार यात्रियो ने डायल 100 टीम की जमकर सराहना की और उन्हे धन्यवाद कहा। रविवार को यूपी रोडवेज़ के अवध डिपो की एसी जनरथ बस लखनऊ से यात्रियो को लेकर बढ़नी जा रही थी। बस में बलरामपुर जिले के उतरौला कोतवाली क्षेत्र के बरेली निवासी सतीश चंद्र पांडेय व बलरामपुर जिले के रजिस्ट्रार नरेंद्र सिंह समेत करीब 70 यात्री सवार थे। सतीशचंद्र पांडेय ने बताया कि रात करीब 12.15 बजे बस गोंडा उतरौला मार्ग पर धानेपुर थाना क्षेत्र के कोनिया बनकर गांव के समीप पहुंचा थी कि बस अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड्ढे मे जाकर पलट गई। बस पलटते ही चीख पुकार मच गई। सतीश ने 100 नंबर पर पुलिस को हादसे की सूचना दी और मदद की गुहार लगाई। सतीश के काल करने के पांच मिनट के भीतर ही यूपी डायल 100 की पीआरवी 0867 मौके पर पहुंची। पुलिसकर्मियों ने देखा कि बस मे सवार यात्री बस के भीतर फंसे हुए है। हर कोई अपनी जान बचाने के लिए गुहार लगा रहा था। टीम के प्रभारी डीएन सिंह व उनकी टीम ने साहस व सूझबूझ का परिचय देते हुए बस के शीशे को तोड़कर यात्रियो को बाहर निकालना शुरू किया। पुलिस के इस काम मे गांव के लोगों ने भी भरपूर साथ देते हुए यात्रियो को बाहर निकालने मे मदद की। डायल 100 प्रभारी डीएन सिंह,एसीपी जयराम यादव व होमगार्ड चालक राम ललन तिवारी ने वैन मे मौजूद फर्स्ट एड किट का मदद से घायल यात्रियो की मरहम पट्टी की। हादसे की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष अतुल चतुर्वेदी भी मौके पर पहुंचे और एम्बुलेंस बुलाकर घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुजेहना पहुंचाया। पुलिस कर्मियों के इस तत्परता व साहस की बस में सवार यात्रियों ने भूरि भूरि प्रशंसा की और उन्हे धन्यवाद दिया। बस मे सवार बलरामपुर जिले के रजिस्ट्रार नरेंद्र सिंह ने डायल 100 टीम को देवदूत बताया और कहा कि डायल 100 समय से मौके पर नहीं पहुंचती तो कई लोगों की जान जा सकती थी। उन्होने कहा कि पुलिसकर्मियों ने मरहम पट्टी एवं दवा के वितरण से घायल लोगों का दिल जीत लिया है। यात्रियो ने कहा कि हमने अपने जीवन में पुलिस के इंसानियत मानवता एवं मित्र पुलिस इस रूप को जीवन में नहीं देखा था। रजिस्टार बलरामपुर नरेंद्र सिंह ने खुले शब्दों में डायल 100 की टीम के सी पी डी एन सिंह एवं उनके सहयोगियों का विशेष रूप से आभार प्रकट किया और कहा कि पुलिस के मानवता पूर्ण व्यवहार एवं मित्र पुलिस की भूमिका को देख कर मैं हर्षित हूं और मैं गर्व महसूस करता हूं कि मैं ऐसे लोगों के बीच में हूं। वहीं डायल 100 की टीम को मदद करते देखकर ग्रामीण बरसाती, हजरत अली, सुरेश वर्मा, आलोक वर्मा ,बृजेश वर्मा, अमर नाथ वर्मा, अनिल वर्मा ,आशीष वर्मा, राम मूरत शर्मा, राम भवन वर्मा व कर्ता राम वर्मा ने डायल 100 पुलिस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर घायलों को बाहर निकलवाने में मदद की। हादसे में 20 यात्री घायल,प्राथमिक उपचार के बाद भेजे गए घर गोंडा। थानाध्यक्ष अतुल चतुर्वेदी ने बताया कि जनरथ बस हादसे मे बस में सवार 70 यात्रियो मे से 20 यात्री घायल हुए हैं। घायलों में प्रमुख रूप से कमरुद्दीन, महबूब अली व बलरामपुर से नरेंद्र सिंह (रजिस्टार बलरामपुर) जो अपने बच्चों के साथ लखनऊ गए हुए घायल हो गए हैं । इसके अलावा तेज बहादुर, शिव बहादुर, मीना कुमारी सुनार, दीपक सुनार, गणेश, भादू सोनार व आर्मी के जवान सिपाही टॉप थापा जो नेपाल के रहने वाले हैं घायल हो गए हैं। इसके अतिरिक्त सिद्धार्थनगर के चंद्रभान चौहान आदि करीब 70 लोग गाड़ी में सवार थे। सभी को प्राथमिक उपचार के बाद उनके गन्तव्य के लिए रवाना कर दिया गया है।


UPPatrika
उमानाथ तिवारी
संवाददाता
और न्यूज़ पढ़ें

0 Comments

Leave a comment

Your email address will not be published, all the fields are required.


Comments will be shown after approval .

पोल   करें

AJAX Poll Using jQuery and PHP

X

Loading...

X